World View of PS Malik

PS Malik speaks

World View of PS Malik - PS Malik speaks

Labyrinth Meditation: A Silent Revolution

Labyrinth Meditation: A Silent Revolution

 

labyrinth_walking

 

Labyrinth meditation is an unusual meditational method. It is a rare combination of Yoga’s Pranayama, Sufi’s whirling and Osho’s Dynamic meditation. Whenever you feel helpless in abandoning your unruly thoughts you may choose Labyrinth Meditation. Its practice has a tremendous effect on the internal awakening.

THE COMPLETE ARTICLE IS AT:

http://psmalik.com/beyondmind/252-labyrinth-meditation

Rajniti Aur Ramleela

bjp-aap-cong

राजनीति और रामलीला

2015 के विधानसभा चुनावों के नतीजे बहुत चौंकाने वाले नहीं हैं। इन नतीजों की पूर्वपीठिका स्वयँ भाजपा की ही लिखी हुई है। शुरू से यह लगभग निश्चित दिखाई दे रहा था कि देश के अन्य भागों की तरह ही भाजपा दिल्ली चुनावों को जीतने की ओर चल पड़ी है। जीत भी साफ दिखाई दे रही थी। तभी किसी ने एक पैराशूटर को भाजपा चुनावों में उतार दिया। श्रीमति किरण बेदी को भाजपा की कमान सौंप दी गई। उसी क्षण से सब कुछ बदलने लगा।

श्रीमति किरण बेदी को चुनावों में उतारने से जनता के बीच बहुत गलतफ़हमी हुई है। केजरीवाल, अन्ना हजारे और अंत मे भाजपा कोई भी घर इन्होंने छोड़ा नहीं है। दिल्ली की जनता नहीं चाहती थी कि उसे एक बार और किसी नाम के सहारे छला जाये।

दूसरी महत्तवपूर्ण बात थी कि सारे भारत में भाजपा मोदी के नाम के सहारे लड़ रही ऐसा लगा कि भाजपा श्रीमति किरण बेदी को श्री नरेन्द्र मोदी से भी बड़ा यौद्धा मान बैठी है और अब मोदी की नैया को बेदी पार लगाएगी। मोदी में अविशवास करने का नतीजा किरण बेदी थी।

एक तीसरा कारण भी था। ऐसा लगा कि राजनीति नहीं रामलीला की जा रही हो जहाँ केवल संवादों और मेकअप के सहारे ही कलाकार उत्तम अभिनय की ट्रॉफी जीत लेते हैं। मतदाताओं ने सिद्ध किया कि वे अब राजनीति के धोखे में रामलीला को नहीं जिताएँगे।

चौथा कारण आम आदमी पार्टी का कुशल बर्ताव था। यह संदेश अब साफ हो जाना चाहिये कि जनता राजनीति के नाम पर अब छिछोरी हरकतों को स्वीकार नहीं करने वाली है। अब इस प्रकार के बैंड बाजों का प्रयोग त्याग ही दिया जाना चाहिये।

और अंत में, यह केवल भाजपा की उस सोच की ही हार नहीं है जिसमें उसने सब्सटान्स से अधिक ध्यान स्टाईल पर देना शुरू कर दिया था बल्कि इस खेल के दूरगामी परिणाम होने वाले हैं। श्री मोदी की राजनीतिक दिक्कतें और बिहार मे विपक्ष का मनोबल अब बढ़ने वाले हैं।

और अँत में अन्तर्राष्ट्रीय फलक पर भी जहाँ भारत के प्रधानमंत्री मोदी की तूती बोलने लगी थी वहाँ भी इस बात को नोट किया जाएगा। ऐसे में हम सब को भारतीय हितों के लिये एक होकर काम करना होगा। हम घर में राजनीति करें या रामलीला करें बाहर जगत में हमें मजबूती से एक साथ खड़े रहना होगा। मोदी जी, यही जरूरी भी है।

THE COMPLETE ARTICLE IS AT

http://www.psmalik.com/charcha/243-rar

HOMEOPATHY FOR HAIRFALL

HOMEOPATHY FOR HAIRFALL

Dr. PS Malik

 Hair-Loss_modifiedpic 2

Alopecia means hair loss. Patients seeking homoeopathy for alopecia are increasing. The testimony of success to cure permanently is a rapid, gentle and permanent manner.

If alopecia is due to skin conditions like eczema, dermatitis and fungal infection, remedy is selected based on these. Along with indicated remedy mother tinctures enhancing hair growth, controlling dandruff, promoting blood supply through peripheral vessels, acting as hair tonic, etc. are usually recommended to use externally mixed with some oil for consistency.

ACIDUM FLOURICUM

Alopecia with great dryness of hair and soft nails. Falling out of hair after fevers. Children with a tendency to patchy bald areas, without a definite skin disease. But it is patchy areas of thinning of the hair rather than actual baldness.

ARSENICUM ALBUM

Falling of hair with convalescence. Sometimes from skin conditions like eczema, Urticaria, herpes zoster etc. with characteristic thirst.

GRAPHITES

Hair of vertex, sides and beard turns grey early and falls out, with matted and brittle hair. Bald patches at the beard and chin.

THE COMPLETE ARTICLE IS AT

http://psmalik.com/homeopathy-world/238-homeopathy-for-hairfall

QUACKS, MEDICAL MAFIA AND THE GOVERNMENT

QUACKS, MEDICAL MAFIA AND THE GOVERNMENT

medical_mafia

  • There is an acute shortage of doctors in India.
  • Thousands of patients die because doctors were not available to them.
  • The government is going to allow semi-skilled doctors to provide medical care where the skilled ones are not available.
  • Those who see this profession as a minting occupation than an opportunity to serve have started raising hue and cry.
  • 45% of medical trade is occupied by very simple prescription e.g. pain killers, gastric problems, depression problems etc.
  • Specialized medical treatment share is only 8.7% of the complete medical trade.
  • As per views by a survey 87% consumers are not satisfied the way they were treated with by these so called Trained Medical Experts.

THE COMPLETE ARTICLE

Like other developing countries India is also facing an acute shortage of trained medical practitioners. As per statement of the concerned minister in November 2011 in India there was 1 doctor for 2000 patients. This medical population is usually concentrated in big cities. The picture assumes a more horrible face in villages and small towns. As per a report in The Guardian newspaper in 2009 in India one infant died every 15 seconds in want of a proper medical help.
To improve upon this grim scenario the government has decided:

  • Giving AYUSH docs the right to prescribe allopathic drugs after a one year course.
  • A compulsory Bachelor of Rural Health Care course
  • AIIMS-like institutions in various parts of the countries. They are going to be located in Patna, Bhopal, Bhubaneshwar, Jodhpur, Raipur and Rishikesh.
  • A compulsory bond that will force the docs to return to India after completing their medical education abroad.
  • Setting up of a centralized National Commission of Human Resources and Health which will have all other medical bodies in the country under its jurisdiction.

In response to this govt. initiative some people have started criticizing it. In their arrogant style they have coined a term – Hybrid Doctors. Critics are mostly those groups and people who are least bothered about the welfare of the country or the human beings but are largely guided by their capabilities of earning money and adversities related to it. For this group of thinkers (!) they and their needs always stand first in the queue.
The number of doctors are meagre to meet the needs of the society. They are less than 1/20th in number than they are actually required. How to fill the gap? The critics are not coming forward with any alternative plan to provide medical help to the needy ones. They raise their voice not guided by the welfare of population but by their petty financial interests. They find themselves intimidated against their monopoly in this field of health-care.
When talked to the public these medical angels are reported to have shown the most barbaric faces when a patient is confronted to them. The behaviour of doctors in hospitals is reported to quite monarchic. They behave not as doctors but as lords. They are found busy in pursuit power and money. Therefore, any argument led by them should not allowed to be viewed as celestial and motivated by divinity.
The major part of healthcare is related to general problems like headaches, indigestion, workloads. For this reason a major chunk of the medicines is occupied by the medicines sold over the counter. Even the chemists sell these medicines after evaluating the pathology of a person. Specialty And Super – Specialty Treatment and medicines are related to only a very small part of this medical – trade. So the real threat to the monopoly to the business of such critics is in fact, negligible.
AYUSH doctors are qualified doctors although in a different discipline of medical care. It was this science of these AYUSH doctors that has served the humanity for thousands of years prior to birth of these critics’ science. It was this noble science of these AYUSH doctors which has produced not only best of medical experts but the best of human beings also who did not bother more for the money than for human lives. Therefore, critics must not be afraid of welfare of the public.
The government is right in its approach and direction. Such monochromatic thinkers should be discouraged because their arguments are not for the benefit of poor and needy ones.

http://psmalik.com/2013-06-11-19-32-17/15-generaltopics/233-quacks

सुनिये सरकार जी

सुनिये सरकार जी

cartoon-king-18

  • किसी विद्वान ने यह सलाह दी है कि इस देश में विवाह पूर्व डॉक्टरी परीक्षण आवश्यक कर दिया जाना चाहिये ताकि लड़का और लड़की को जाँच कर पता लगाया जा सके कि उन्हें कोई यौन समस्या तो नहीं है। तर्क दिया गया है बड़ी संख्या में शादियाँ केवल यौन-अक्षमताओं के चलते टूट जाती हैं इसलिये यदि शादी से पहले ही मेडीकल परीक्षण द्वारा यह सुनिश्चित किया जा सके कि दोनों पक्षों को यौन-अक्षमता नहीं है तो अनेक शादियों को टूटने से बचाया जा सकता है।
  • यह मान लेने के तार्किक आधार हैं कि सभी विवाहित लोगों की संख्या के मुकाबले इन विद्वान महाशय द्वारा देखे गये उन उदाहरणों की सँख्या बहुत ही कम होगी जिनके आधार पर यह नतीजा निकाला गया है। मुश्किल से एक प्रतिशत के सौंवे हिस्से से भी कम ही होगी। तो ऐसा क्या कारण हो गया था कि एक नगण्य सी संख्या को देखने भर से आपने सब लोगों के लिए एक अनिवार्य शर्त गढ़ने की बात तक सोच डाली।
  • दो तीन साल पहले तक पूरा घर 100-200 रुपये महीना पर केबल देख लेता था। अचानक कुछ विद्वानों को लगा कि इस विषय पर एक सामाजिक क्रांति की जा सकती है। उन्होंने ‘गरीबों का हित’, ‘आपके अधिकारों की सुरक्षा’, ‘चयन का अधिकार’ आदि शब्द बार बार कहे और उन शब्दों के नाम पर पता नहीं क्या-क्या किया गया कि आज उसी केबल को दस-बारह गुणा पैसा खर्च करके देखा जाने लगा। हजारों केबल वाले बेरोज़गार हो गये हैं। हाँ कुछ बड़े लोगों की जेबों में अब अधिक धन अधिक आसानी से पहुँचने लगा है। हम जनता को बताया दिया गया है कि हमारा भला हो गया है।
  • दिल्ली में एक बादशाह हुए हैं शाह आलम (1728-1826 ई)। उनके घटते हुए प्रभाव को लेकर उनके बारे में कहावत थी कि हुकूमत ए शाह आलम, अज़ दिल्ली ता पालम। तो क्या आज भी कुछ विद्वान लोग ऐसे हैं जो हुकूमत ए हिन्दुस्तान को सिर्फ पालम तक फैला हुआ मानते हैं।
  • ऐसा अंदेशा है कि जैसे ही यह साहेब वाला हुक्म लागू होगा तो तत्काल ही Sexual Fitness Certificate जारी करवाने वाले गिरोह विकसित हो जाएंगे जैसे कि प्रदूषण नियंत्रण वालों के यहाँ हो गये हैं। मोटी मोटी रकमें इधर से उधर होंगी सर्टिफ़िकेट्स जारी किये जाएंगे और भ्रष्टाचार का एक और चैनल शुरू हो जाएगा।

THE COMPLETE ARTICLE IS AT THE LINK

http://psmalik.com/charcha/230-sexual-fitness-certificate

मोदी का Niche Market प्रयोग

मोदी का Niche Market प्रयोग

 Debris of Ideologies450

  • अंग्रेजी में नॉर्डिक मूल का एक शब्द है – निच् (Niche)। जब इसे बाजार प्रणाली के संदर्भ में इस्तेमाल किया जाता है तो यह कहलाता है निच् मार्केट (Niche Market)।
  • उदाहरणार्थ बाजार में दस फूड सप्लीमैंट्स हैं जो बालकों को प्रचुर कैलशियम उपलब्ध करवाने का दावा करते हैं। दसों फूड सप्लीमैंट्स में बिक्री के लिए घमासान मचा हुआ है। प्रचार पर भारी पैसा खर्चा किया जा रहा है। अचानक एक फूड सप्लीमैंट का निर्माता जनता को कहना शुरू करता है कि उसके सप्लीमैंट में एक ऐसा साल्ट भी है जो सप्लीमैंट वाले कैलशियम को शरीर तक पहुँचाता है। बिना साल्ट वाला कैलशियम किसी मतलब का नहीं है। वह यूँ ही शरीर से बाहर फेंक दिया जाएगा। साल्ट के बिना कैल्शियम तो बस मिट्टी जैसा है। अब उपभोक्ता सब कुछ भूलकर साल्ट वाले कैलशियम को खरीदने के लिए दौड़ पड़ते हैं। साल्ट वाला सप्लीमैंट बाजी मार लेता है। शेष सप्लीमैंट समान गुणवत्ता के होते हुए भी पीछे रह जाते हैं।
  • इस उदाहरण वाली बाजार प्रणाली में न सिर्फ प्रोडक्ट बेचा जा रहा है बल्कि एक ऐसी कसौटी भी साथ दी जा रही है जिस पर उस उत्पाद को कसा जाएगा। सामान्य नियमों के तहत् यह कसौटी उपभोक्ता की खुद की होनी चाहिए परन्तु बाजार की चतुराई यह है कि प्रोडक्ट का निर्माता स्वयं ही इस कसौटी को रच कर उपभोक्ता को थमा देता है। अब प्रोडक्ट भी उसी का है और प्रोडक्ट को जाँचने की कसौटी भी उसी निर्माता की है। अतः अब लाभ भी निश्चित ही उसी का हो जाता है। चुनाव 2014 में यही मोदी ने भी किया है।
  • मोदी का निच् मार्केट था – विकास। इसे उन्होंने कुछेक सहायक सब- निच् मार्केट (Sub Niche Market) प्रत्ययों जैसे ‘सबका विकास सबका साथ’,‘भारतीय गौरव’,‘सरकारी अकर्मण्यता के प्रति रोष’ आदि के साथ जोड़ दिया। और कमाल हो गया। विरोधियों को सूझा ही नहीं कि साम्प्रदायिकता आदि को लेकर जिस मोदी विरोध की तैयारी उन्होंने कर रखी थी और जो अब अचानक भोथरे हो गए थे उनका क्या किया जाए ?  और जब तक विपक्ष इस किंकर्त्तव्यविमूढ़ता से बाहर आता तब तक चुनाव खत्म हो चुके थे। इस नई व्यवस्था में चहुँ ओर मोदी ही मोदी हैं।
  • विकास की जिस अवधारणा को मोदी जी अवतरित करना चाहते हैं वह मूल स्वरूप में लगभग वही है जिसे नरसिंह राव सरकार ने शुरू किया था और मनमोहन सरकार ने जिसे पाला पोसा था। अब तक जिन सुधारों की बात मोदी जी ने की है वे केवल कॉस्मैटिक सुधार हैं। मोदी द्वारा प्रतिपादित सुधार नरसिंह-मनमोहन सिद्धाँत से आमूल चूल भिन्न नहीं हैं। मनमोहन सिंह के लिये अस्वीकार्यता और मोदी की स्वीकार्यता के बीच केवल बालिश्त भर का ही अंतर है। इस सिद्धाँत का प्रतिछोर अभी भी सामाजिक न्याय का सिद्धाँत है जो आज के समय में भी केवल सपा और बसपा ने ही थाम रखा है। यदि मोदी का विकास इस देश का सपना है तो सामाजिक न्याय यहाँ की हकीकत है। जिस समय भी आप नींद की खुमारी से बाहर आएंगे तो हकीकत की जमीन पर ही खड़ा होना होगा।

THE COMPLETE ARTICLE IS AVAILABLE AT

http://psmalik.com/charcha/228-vichardara

शस्त्र उठाओ मोदी जी

शस्त्र उठाओ मोदी जी

modi-ji

जब आपने चुनावों में वादा किया कि अच्छे दिन आने वाले हैं तो भारत की जनता ने मान लिया था कि यकीनन अब अच्छे दिन आने वाले हैं।

आपकी सरकार ने भी कदम उठाने शुरू कर दिये हैं। आप की तरफ़ से भी घोषणा कर दी गई है कि देश को कुछ कड़े कदमों के लिये तैयार रहना चाहिये। उम्मीद है कि अब टैक्स बढ़ा दिये जाएँगे, सब्सिडी कम कर दी जाएगी, पैट्रोल-डीजल के दाम बढ़ा दिये जाएँगे, जनता हाहाकार करने लगेगी, पुलिस उन्हें दबाने के लिए इस्तेमाल की जाएगी और तब तक अगले चुनाव आ जाएँगे।

परन्तु यही सब तो पुरानी सरकारों के समय भी होता था। तब इसमें अलग क्या हुआ? क्या इसी तरह अच्छे दिनों को लाया जाने वाला है? इस से तो जनता में भयानक निराशा पैदा होगी।

पहला पत्र

  • आज भारतीय राष्ट्र-राज्य के सामने मुख्य चुनौती आर्थिक है। विदेशी कर्ज़ का सँकट है, उत्पादन घट गया है, काला धन घूसखोर नौकरशाहों, बिचौलियों और बिल्डरों की तिजोरियों में बँद है, जवाबदेही अपने न्यूनतम स्तर पर है, कानून-व्यवस्था का डर लगभग खत्म हो चुका है, पुलिस बेलगाम हो उठी है, न्याय का वितरण मनमाने तरीके से हो रहा है ।
  • इस दुष्चक्र से निकलने के लिए पहला और सबसे जरूरी विकल्प उत्पादन को बढ़ाना है। इसके लिए करों Taxes को ना बढ़ाया जाए। लोगों से श्रमदान यानी कि श्रम का दान करवाया जाए।
  • जो जहाँ है वहीं से देश-प्रहरी बन कर कर्म में जुट जाए। काम के घंटे बढ़ाए, काम की गुणवत्ता बढ़ाए, काम का दायरा बढ़ाए। उत्पादन प्रति व्यक्ति बढ़ाए। जनता का पैसा नहीं छीना गया बल्कि जनता ने स्वतः ही श्रम का योगदान दिया।
  • जिनके पास काम नहीं है उनके लिये काम सृजित किया जाए। सरकार के लुटेरे विभागों जैसे – एक्साईज़, आयकर, प्रोविडैन्ट फँड, श्रम, ईएसआईसी(ESIC) जैसे उत्पीड़क विभागों पर लगाम कसी जानी चाहिए। इन विभागों के बाबू और अफ़सर मिलकर कर उगाही और जनता के कल्याण के नाम पर देश के उद्योगों को चौपट कर रहे हैं।
  • सन् 2014 के मूल्यों के आधार पर 200 करोड़ रुपये से कम टर्न-ओवर वाले उद्योगों को इन विभागों से पूरी छूट दी जाए और 1000 करोड़ रुपये तक के टर्न-ओवर वाले उद्योगों के लिए इन विभागों से बहुत सरल नियम बनाए जाने चाहियें।
  • सन् 2014 के मूल्यों के आधार पर पाँच व्यक्तियों के एक सामान्य परिवार को अपने लिये गरिमामय जीवन यापन के लिए कम से कम पचास हजार रुपये हर महीने चाहिए। अतः छः लाख तक की वार्षिक आय पर किसी प्रकार का कर नहीं लगाया जाना चाहिये। इससे अधिक की आय पर भी कराधान अत्यँत स्नेहिल ही होना चाहिये।
  • सवाल है कि तब इन सब कामों को करने के लिए धन कहाँ से आएगा।
  • अब सन् 1970-75 के वे दिन नहीं हैं जब गरीबों के उत्थान के लिए धनवानों को गाली देना जरूरी था। आज धनवानों को गरियाने से कुछ हासिलनहीं होगा। धनवान इसी भारतीय समाज के हिस्से हैं वो हमारे ही हैं।
  • वो भी विकास को वैसे ही चाहते हैं जैसे समाज के दूसरे वर्ग चाहते हैं। आज समय उनसे बैर करने का नहीं उनसे सहारा लेने का है। आज आपको नया नारा देना होगा जिससे धन और धनवान दोनों आगे आएँ। नए भारत के निर्माण के लिये।
  • एक ऐसे कोष की स्थापना की जा सकती है जहाँ जमाकर्ता से उसके स्रोत पर प्रश्न ना किये जाएँ। स्विस बैंको की तर्ज़ पर कोई भी व्यक्ति कितनी भी रकम जमा करवाए। कोई भी बँदिश ना लगाई जाए।
  • ऐसे जमाकर्ताओं से इस सेवा के बदले कुछ बहुत मामूली सा शुल्क लिया जा सकता है। उनसे कहा जा सकता है कि वे अपनी रकम को एक न्यूनतम अवधि जैसे कि एक या दो साल तक ना निकालें।
  • एक छोटी सी सावधानी यह भी रखनी होगी कि यह धन निकासी के बाद सीधा ही भारतीय बाजार में ना उतारा जा सके। इससे महँगाई बढ़ सकती है। इसका भुगतान किसी दूसरे रूप में जैसे सोने के माध्यम से या हार्ड कैश के रूप में किया जा सकता है।
  • कुल निष्कर्ष वही है जो आपने नारा दिया था – मिनिमम गवर्न्मैन्ट एण्ड मैक्सिमम गवर्नैंस।

अब आप अपने शस्त्र उठा ही लीजियेमोदी जी! राष्ट्र निर्माण का युद्ध शुरू हो चुका है;

THIS ARTICLE IS AVAILABLE AT

http://psmalik.com/charcha/227-shashtra-uthao-modi

कालाधन सिर्फ काला नहीं होता

कालाधन सिर्फ काला नहीं होता

 black-money

जो भी धन स्थापित व्यवस्थाओं के उल्लंघन से हासिल किया जाता है वही काला धन होता है। सरल शब्दों में कहें तो बिना टैक्स चुकाए जो धन सरकार से छिपाया जाता है वह काला धन होता है।

जब सरकार की नीतियाँ अस्थिर, शोषणकारी और दमनपूर्ण होंगी और उसके साधन हर स्थान पर उपलब्ध नहीं होंगे तो जनता का सक्षम वर्ग भविष्य की सुरक्षा के लिए अपनी आय को छुपा लेता है और काले धन का निर्माण करता है। ऐसा भी संभव है कि आय उन साधनों से हुई हो जिन्हें सरकार ने प्रतिबंधित किया हुआ है। जैसेकि प्रतिबंधित वस्तुओं की बिक्री करके या घूस आदि लेकर।

काले धन के कई प्रकार हैं।

  • आम लोगों का काला धन
  • उद्योगपतियों का काला धन
  • राजनेताओं का काला धन
  • ब्यूरोक्रेट्स का काला धन
  1. आम लोग अपनी घोषित कमाई के अलावा भी एकाध काम जैसे – सुबह अखबार बेचकर, लिफाफे बना कर, छोटी मोटी मशीनें लगा कर, कोई टॉफी-बिस्कुट की दुकान खोलकर आदि करके कुछ कमाई कर लेते हैं और सरकार से छुपा लेते हैं। इस धन का मुख्य उद्देशय अपने सामाजिक भविष्य को सुरक्षित करना होता है। आकार में यह कालाधन इतना सूक्ष्म है कि सरकारें इस पर आमतौर से विचार भी नहीं करतीं।
  2. उद्योगपति अपने उद्योगों से होने वाली कमाई का पूरा ब्यौरा ना देकर कुछ काला धन कमाते हैं। कई बार इसका आकार बहुत बड़ा भी हो सकता है। उद्योगपति को इस कालेधन की जरूरत सरकारी बाबूओं, अधिकारियों और मजदूर नेताओं आदि की जरूरतें पूरी करने के लिये होती है।
    1. किसी उद्योगपति के पास कुछ काला होता है तो वह उसका इस्तेमाल नया उद्योग खड़ा करने में करता है जिससे अधिक उत्पादन और रोजगार पैद होता है। भारत जैसी अधकचरी अर्थव्यवस्थाओं में यदि ऐसे काले धन को समाप्त किया गया तो यह उद्योगों के लिये ही विनाशकारी होगा। उद्योग तबाह हो जाएँगे। इस काले धन को समाप्त नहीं किया जा सकता।
  3. कालेधन का एक अन्य प्रकार राजनेता के पास होता है। कई राजनेताओं को राजनीति में बचे रहने के लिए अनेक ऐसे जनकल्याणकारी कार्य करने होते हैं जिनके लिए सरकार से कोई धन प्राप्त नहीं होता। बाहरी दिल्ली का एक प्रसिद्ध युवा नेता अपने व्यक्तिगत पैसे से एक हजार के लगभग वृद्धाओं को मासिक पेंशन देता है।
    1. राजनेताओं का कालाधन एक बुरे काम के लिए भी इस्तेमाल होता है। यह राजनीतिक अस्थिरता और कानूनी अराजकता के लिए भी प्रयोग किया जाता है। उस अवस्था में यह देश-समाज के लिए नुकसानदेह होता है।
    2. राजनेताओं के काले धन के बहुमुखी इस्तेमाल की संभावनाओं के मद्देनज़र इसे पूरी तरह नष्ट करने की सोचना उचित नहीं होगा। राजनेताओं के कालेधन को नष्ट करने की बजाय इसे रेगुलेट करने की सोचनी चाहिए। इसे नियंत्रित किया जाना चाहिए।
  4. सबसे बुरा कालाधन ब्यूरोक्रेट्स का कालाधन होता है। यह धन आम आदमी के शोषण से पैदा होता है। ब्यूरोक्रेट्स का काला धन आम जनता की परचेजिंग पावर को घटा कर पैदा किया जाता है अतः यह बाजार के खिलाफ काम करता है। दूसरा यह उत्पादन को बढ़ाए विना ही बाजार में (काला)धन झोंक देता है अतः महँगाई को बढ़ाता है। यह ही वह कालाधन है जो स्विस बैंकों की पासबुकों के पृष्ठ सँख्याओं को बढ़ाता है। यही वह कालाधन है जिसको बढ़ाने के लिए बाबू और अधिकारी मिलकर आम जनता के कामों को रोकते हैं और कानूनों की अबूझ पेचीदगियाँ पैदा करते हैं। यह ही वह धन जिसकी मात्रा अकूत होती है। आम आदमी इसी काले धन से त्रस्त होता है। इसी पर लगाम लगाए जाने की जरूरत है।

कालेधन की समस्या पर काम करने के लिए सरकार को अपनी सोच स्पष्ट करनी होगी- कौन सा कालाधन? वह क्यों पैदा होता है? उसे पैदा करने में वर्तमान व्यवस्था के कौन से तत्त्व जिम्मेदार हैं? पूरी व्यवस्था में कौन से सुधार दरकार हैं जिनके बाद कालेधन की जरूरत ही ना रहे? इन सभी आधारों पर सोचकर ही कालेधन पर कुछ युक्तिसँगत कहा जा सकेगा।

इसी दिशा में एक सुझाव यह भी है जितना संभव हो कालाधन अनुमोदित, नियंत्रित या प्रतिवंधित किया जाए और शेष कालाधन जिस पर किसी भी प्रकार का कानूनी आचरण संभव नहीं है उसका राजनीतिक-सामाजिक उपयोग किया जाए। एक ऐसे कोष की संभावना पर विचार किया जा सकता है जो लगभग स्विस बैंको की तर्ज पर हो और जिसमें जमा करवाए गये धन के स्रोत के विषय में कभी भी ना पूछे जाने की गारँटी दी जाए। ऐसे अज्ञात-स्रोत वाले धन के स्वामियों को ब्याज ना दिया जाए बल्कि एक बहुत मामूली सी राशि उनके धन को हिफ़ाजत के साथ सुरक्षित रखनें के लिए उनसे ही ले ली जाए। बस सरकारी नियँत्रण इतना ही हो कि ऐसे जमाकर्ता एक निश्चित समय जैसे एक या दो वर्ष तक उस रकम को खाते में बनाए रखने का वचन दें ताकि सरकार के पास उस धन का एक निरंतर प्रवाह और निवेश बना रहे।

THE COMPLETE ARTICLE IS AVAILABLE AT

http://psmalik.com/2013-06-11-19-32-17/15-generaltopics/216-kala-dhan

http://expression.psmalik.com/kala-dhan/

CARBON FAMILY

CARBON GROUP

diamond

SPHERE OF ACTION:

All the carbons act also on the skin, producing excoriations of the skin and intertrigo.

They affect the glands also, causing enlargement and induration of the axillary and other lymphatic glands, even as in the case of Carbo veg. and Carbo Animalis.

Cancerous enlargement and infiltration.

They all affect the mucous membranes, producing catarrhs of the nose, throat and lungs and also of the bowels. They all tend to produce asphyxia. We find this prominently in Carbo Veg., less so in the Carbo Animalis, and very marked in Aniline and Carboneum. Carboneum may produce asphyxia with convulsions simulating those of epilepsy. Coal gas and Carbonic oxide too are calculated to produce dyspnoea from deprivation of oxygen.

Act on the veins, producing varicose veins.

Carbons tend to produce flatulence. The flatus is offensive and has an odour like that of rotten eggs.

CHARACTERISTIC FEATURES OF CARBON GROUP:

AILMENTS FROM:

Loss of vital fluids, emotional stress, mental or physical stress, over lifting, overwork, exertion, sprains and strains, exercise, overheating, sexual excess, cold air, open air, by warmth in general, wrapping up, hot drinks and by rest.

MIASMATIC BACKGROUND:

All carbon group remedies are predominantly Antipsoric, as per the “Roberts Theory of Psoric or deficiency” which states that any deficiency of constructive element (which has atomic weight below 52) either due to inability to assimilate or non-availability leads to Psoric taint or susceptibility.

Thermal Relation:

All the carbon group remedies are chilly and patients are extremely sensitive to cold air.

PATHO-PHYSIOLOGICAL ACTION:

Mind:

It slows down the mental activities, causes marked

Sluggishness, which is the characteristic of carbon group.

Patient is slow to think, stupid, lazy and stagnation of thoughts.

Mentally dull slow in understanding without idiocy and slow grasping power.

Lymphatic Glandular System:

It causes swelling and induration of glands and may stimulate cancerous enlargement and infiltrations.

Glands become hard and sore with indurated surrounding tissue and may be paralyzed and infiltrated.

There may be congestion with or without suppuration.

There may be sluggish indurated ulcers.

Lymphatic secretions become fetid or offensive.

Venous Circulatory System:

Carbon affects the venous circulatory system, causes paralysis and infiltration of the veins. Veins are lazy, relaxed and paralyzed.

The sluggishness of carbon is marked in venous system. Sluggishness of venous circulation leads to enlargement and dilatation due to stasis of blood and thus varicosity is increased producing varicose veins which ultimately is responsible for the formation of ulcers.

Venous congestion, blue cyanosed condition with too much sweat, phlebitis.

Common Characteristic Physical Symptoms:

Burning is typically present in all carbon groups, burning all over the body and also in palms and soles. Burning pains over the body.

Burning shows the destructive properties of carbon, energy stored in the body is destroyed which leads to lack of muscle strength.

GENERAL MODALITIES

Aggravation:

Music, full moon, evening, 7 p.m., night, cold, draft of cold r, damp weather, light, during menses, warmth of bed, hot drinks, Jtting feet wet, empty swallowing, fatty food, motion, exertion, climbing stairs, scratching, riding in a carriage and sprains.

Amelioration:

Open air, walking after, eating, touch, rest and heat.

FOR COMPLETE ARTICLE PLEAESE VISIT THE LINK:

http://psmalik.com/homeopathy-world/214-carbon-group

An Amazing Case of Blood Pressure

Doctor taking patients blood pressure --- Image by © Christine Schneider/cultura/CorbisThe patient was a judge by profession; aged about 50 years.

 He was having blood pressure for about last 30 years.

He is plethoric in appearance but this plethora was not flabbiness. He is more muscular and solid. He appears to be quite calm and peaceful. His cholesterol is 225+ and LDL is 140+. His blood sugar is presently 170+. His normal blood pressure goes up to 160+/120+ and pulse 120.

For Blood sugar he was given daily 10 drops of a mixture of (Syzygium, Cephalandra and Gymnema Sylvestra) in half cup of water. The problem of diabetes was sorted out.

Keeping in view his life style, his silent personality and a tendency to stick to his honesty doses of Aur Met was given. It always ended in an aggravation.

Nux Vom was partially effective along with partial reliefs from Bry and Alum. A cumulative effect was reduction in the requirement of Amlopress AT and Telma.

One dose of Merc 10M and subsequently Arg Nit 10M completely changed the perspiring skin and aggravation from heat. The patient now was a chilly patient. For last one year he never complained of the heat. He always felt a need of warmth around him.

One day the whole course was changed.

During a personal discussion, about 20 days back he opened him how he was helpless against the court-administration, court-system of administering law, the police system, his seniors and even his juniors.

He told that he was just a face of the system but was quite vulnerable to the adversaries. He disclosed that he was just a component of a big show where the power is not exercised but rather it flows.

This gave me hint of rubrics:

  • Plumbum Concepts Jan Scholten
  • Empty Weak Leadership Management
  • Diverting Responsible
  • Indifferent King
  • Formal Distant Dignified Haughty
  • Covering up Alone Isolation

Lead Poisoning 550x150On these rubrics I got an idea and one dose of Plb 200 was given. He got an unprecedented relief in his anxiety and feeling in nape of neck, temples and occiput. For next 4 days he did not need any BP medicines. On 5th day he asked for I dose of Amlopress AT and Telma. It was given. After a few hours a second dose of Plb 200 was given. 6 days have passed since then and no need of BP medicines was felt by the patient.

COMPLETE ARTICLE IS AT THE LINK

http://psmalik.com/homeopathy-world/210-case-of-bp

http://pratapsmalik.wordpress.com/2014/03/03/case-of-bp/

http://psmalik.wordpress.com/2014/03/03/case-of-bp/

Child Protection Law

What is in POCSO Act 2012

Child-Protection

The Protection of Children from Sexual Offences (POCSO) Act 2012 is applicable to the whole of India. The POCSO Act 2012 defines a child as any person below the age of 18 years and provides protection to all children under the age of 18 years from sexual abuse.

This act suggests that any person, who has an apprehension that an offence is likely to be committed or has knowledge that an offence has been committed, has a mandatory obligation to report the matter i.e. media personnel, staff of hotel/ lodges, hospitals, clubs, studios, or photographic facilities.

Failure to report attracts punishment with imprisonment of up to six months or fine or both. It is now mandatory for police to register an FIR in all cases of child abuse. A child’s statement can be recorded even at the child’s residence or a place of his choice and should be preferably done by a female police officer not below the rank of sub-inspector.

The rules laid down in this act also had defined a criteria of awarding the compensations by the special court that includes loss of educational and employment opportunities along with disability, disease or pregnancy as the consequence of the abuse. This compensation would be awarded at the interim stage as well as after the trial ends.

Some of the child-friendly procedures which are envisaged under the POCSO Act are as follows:-

  • At night no child to be detained in the police station
  • The statement of the child to be recorded as spoken by the child
  • Frequent breaks for the child during trial
  • Child not to be called repeatedly to testify

The POCSO Act of 2012 looks into a support system for children through a friendly atmosphere in the criminal justice system with the existing machinery ie the CWC and the commission. The positive aspect is the appointment of the support person for the child who would assist during investigation, pretrial, trial and post trial.

THE COMPLETE ARTICLE IS AT THE LINK

http://www.psmalik.com/2013-06-11-19-32-17/10-lawlegaltopics/208-pocso-act

चमत्कार – Miralces

चमत्कार – Miralces

miraclesचमत्कार आपके देखने की वह अवस्था है जब आप वस्तुओं और विधियों को इस रूप में देखते हैं कि उनके भीतर के सम्बन्ध को नहीं देख पाते हैं।

इस अवस्था में आप वस्तुओं को देख पाते हैं, परन्तु उन विधियों को नहीं देख पाते हैं जिन विधियों से वे वस्तुएँ प्राप्त हुई हैं। यही मानसिक चकराव चमत्कार है। यह हमेशा देखने वाले की आँख में होता है। वही एक वस्तु या विधि किसी एक व्यक्ति के लिये चमत्कार हो सकती है जबकि किसी दूसरे के लिये जो उसके पीछे के परिदृश्य को देख समझ पा रहा है वह वस्तु चमत्कार नहीं हो सकती।

किसी एक व्यक्ति के लिये रेडियो चमत्कार हो सकता है। एक ऐसी वस्तु जो ना जाने बिना मुँह और जीभ के भी विभिन्न स्वर निकाल सकता हैं। संगीत प्रस्तुत कर सकता है और हर बात जानता है। डिब्बे की शक्ल का है फिर भी आवाज़ मनुष्यों की तरह निकाल सकता है। हे प्रभु सब तेरी माया है। टीवी और इन्टरनेट भी ऐसे ही अन्य चमत्कार हो सकते हैं।

लेकिन तरंगों का अध्ययन कर चुके एक छात्र के लिए यह चमत्कार नहीं है। चुम्बकीय ध्रुवों के बीच तेजी से तारों की एक कुँडली घुमाई जाए तो एक ऐसा अनुभव पैदा हो जाता है जो दिखाई तो नहीं पड़ता परन्तु जिसके परिणाम दिखाई तो नहीं पड़ते परन्तु जिन्हें शरीर पर बहुत भीषणता से अनुभव कहते हैं। एक सामान्य जन के लिए यह ईश्वरीय प्रकोप से लेकर पिशाच साधना तक कुछ भी हो सकता है परन्तु भौतिक विज्ञान के छात्र के लिए यह मात्र एक विद्युतीय उत्प्रेरण है। वह रोज़ ऐसी घटनाएँ देखता पढ़ता है।

समझो कि यह देखने वाले की आँख में होता है। इस आँख से बाहर इसका कोई अस्तित्व नहीं है। यह भ्रम नहीं है जहाँ कुछ का कुछ दिखाई पड़ता हो। यह भ्रम से भिन्न एक अन्य अवस्था है। भ्रम का सम्बन्ध बाहर की वस्तु से होता है। चमत्कार का सम्बन्ध आपकी समझ से होता है। यही भ्रम और चमत्कार में अन्तर है।

प्रतिदिन चमत्कार सुनने में आते हैं। अमुक व्यक्ति के साथ चमत्कार घटित हुआ। उसने अमुक देवी या देवता या गुरू के परचे बँटवाए तो उसे अमुक अमुक लाभ प्राप्त हुए। आप भी बँटवाएँ और लाभ पाएँ। यहाँ मानवीय मस्तिष्क की बनावट का वाणिज्यिक उपयोग किया जा रहा है।

पहली तो बात यह कि इस चमत्कार प्रणाली को लाभ के साथ जोड़ दिया गया है। लाभ – जिसके लिए बहुत लोग बहुत कुछ कर सकते हैं वह भी बिना ज्यादा कुछ सोचे समझे हुए ही। जो अधिक खतरा उठा सकने वाले लोग हैं वे लाभ के लिए उन कामों को भी कर देते हैं जिन्हें सुसंस्कृत समाज स्वीकार नहीं करता और ऐसे अ-सुसँस्कृत कामों को अपराध भी कहा जाता है। तो जो अधिक दुस्साहसी लोग होते हैं वे लाभ के लिए अपराध भी कर देते हैं। लाभ में एक प्रेरक शक्ति हमेशा होती है। जो लोग उतने दुस्साहसी नहीं होते हैं वे अपराध तो नहीं करते हैं परन्तु ऐसे काम जरूर कर सकते हैं जिन्हें करने के लिये उनके पास पर्याप्त कारण नहीं भी होते हैं। यानी कि ये लोग यदि लाभ मिलता हो तो ऐसे काम भी कर सकते हैं जिन्हें अतार्किक कहा जाता है। ये भक्त लोग ऐसे ही वर्ग के सदस्य होते हैं। ये लाभ पाने के लिये तार्किक – अतार्किक कुछ भी कर सकते हैं।

दूसरी बात यह कि लाभ को एक उच्चतर प्रकार दिया गया है – दैवीय लाभ। यह भौतिक लाभ की अपेक्ष अधिक आकर्षक होता है। इसे पाने वाले के मन में एक उच्चता और विशिष्टता का एहसास होता है। तो यहाँ भी मानसिक पृष्ठभूमि तैयार कर दी जाती है कि लाभ मिलेगा और वह भी दैवीय लाभ। बस करना यह है कि एक सामान्य सा दिखने वाला काम कर दीजिए। और लोग काम कर डालते हैं। कई बार इसमें नकार भी डाल दिया जाता है। जिन लोगों ने परचे नहीं बँटवाए उनका अमुक अमुक नुकसान हो गया तो लोग लाभ पाने और नुकसान ना पाने के लिए अधिक उद्यत हो उठते हैं। यही इसका चमत्कार शास्त्र है।

क्योंकि इसके लिए एक अतार्किक विधि अपनाई गयी थी इसलिए उस विधि के परिणामों की मनमानी व्याख्या भी की जा सकती है। यदि कोई लाभ सामान्यतः भी हुआ हो तो उसे इस चमत्कार माला में पिरोया जा सकता है और अगर नहीं हुआ है तो बहुत आराम से ऐसी व्याख्या दी जा सकती है जिसमें दोष उस व्यक्ति का ही होता है जिसे लाभ नहीं मिला – जैसे कि उसकी नीयत में खोट हो सकता है या किसी पुराने कर्म का कोई फल हो सकता है।

सामान्य भाषा में कहें तो सब बकवास यहाँ चमत्कार के नाम पर की जा सकती है। इस तरह जो परिदृश्य अतर्क से भरा है वही चमत्कार से पूर्ण है। अर्थात अतर्क ही चमत्कार है।

THE COMPLETE ARTICLE IS ON THE LINK

http://www.psmalik.com/beyondmind/202-miracles

AAP को गाली मत दो ना!

AAP को गाली मत दो ना!!!

aap-cong

दिल्ली में नई पार्टी की सरकार बनी। चहुँ ओर सन्नाटा छा गया। केवल एक शब्द सुना जा रहा था – AAP, AAP और सिर्फ़ AAP। खाली बोतल से एक जिन्न निकला और चारों तरफ़ छा गया। जहाँ देखो वहाँ चर्चा, जहाँ देखो वहाँ AAP का चर्चा।

किसी पार्टी को बहुमत नहीं मिला तो धुर विरोधी दो दलों ने कुछ अभिनय किया, कुछ प्रहसन किये कुछ गालियाँ दीं और कुछ गालियाँ सुनीं। फिर गले मिले गए और दिल्ली में एक सरकार अवतरित हुई – AAP सरकार। काँग्रेस को प्रत्यक्ष सत्ता तो नहीं मिली पर सुकून बहुत मिला। उनकी चिर प्रतिद्वन्द्वी भाजपा सत्ता से दूर हो गई। और एक अन्य आशा भी काँग्रेस को मिली।

काँग्रेस को और जनमानस को भी लगभग यह पता था कि 2014 का जनमत किस ओर जानेवाला लगता है। सभी को पता था कि काँग्रेसीय – छवि की राजनीतिक पैठ लगभग कहाँ तक सिकुड़ गई है। आमतौर से काँग्रेस के विषय में यही अनुमान लग रहा था कि 2014 में वह संभवतः राजनीतिक वापसी नहीं कर रही है।

काँग्रेस भारतीय राजनीति की सबसे पुरानी पार्टी है। यह सबसे बड़े सिर वालों की भी पार्टी है। उनमें बेमिसाल मानसिक क्षमताएँ हैं। चुनाव हारकर भी जीत जाना यह सिर्फ़ काँग्रेस जैसा परिपक्व राजनीतिक दल ही कर सकता है। AAP नामके जिस दल ने काँग्रेस की जड़ खोदकर उसमें छाछ डाली उसी दल को समर्थन देकर सत्तानशीन कर देना ताकि भाजपा राजनीतिक पिछवाड़े में जा पड़े – यह केवल काँग्रेस ही कर सकती है। इतने बड़े राजनीतिक कौशल को ऐसे ही नहीं सीखा जा सकता। शताधिक वर्षों में काँग्रेस ने यह कौशल अर्जित कर लिया है। वह इतिहास में एकाधिक बार पुनर्जीवित हो चुकी है।

इस बार खेला थोड़ा सा अलग है। लगता है कि इस बार काँग्रेस पुनर्जीवन की कामना नहीं कर रही है बल्कि एक छायाप्रेत को जीवित कर रही है। एक ऐसा प्रेत जो उसे छोड़कर अन्य सभी को भस्म कर देगा। काँग्रेस को लग रहा है कि यह प्रेत पितृ ऋण से ओत प्रोत होने के कारण काँग्रेस को नुकसान नहीं पहुँचायेगा जबकि अन्य जो भी उसके सामने पड़ेगा वह छायाप्रेत उसे ही लील जाएगा। काँग्रेस को शायद लग रहा है कि आज के समय में AAP की पब्लिक इमेज उसका छायाप्रेत बन सकता है। यदि उसे पाला पोसा जाए तो यह प्रेत कल सब विरोधियों को खासकर भाजपा और मोदी को लील जाएगा। काँग्रेस गणना कर चुकी लगती है। यह प्रेत वही काँग्रेसी आशा है जिसकी चर्चा इस लेख के शुरू में किया गया था।

महाभारत युद्ध में जब अर्जुन भीष्म को पराजित करने में खुद को अक्षम पा रहे थे तो उन्होंने एक अन्य यौद्धा की आड़ लेकर भीष्म पर बाणों की वर्षा की और उन्हें जमीन पर गिरा दिया। क्या काँग्रेस भी भाजपा को पराजित करने में खुद को अक्षम पाते हुए एक आड़ तैयार कर रही है ताकि आगामी चुनावी महाभारत में भाजपा पर बाण वर्षा की जा सके? इस दृष्टिकोण से तो यह एक सटीक राजनीतिक गणना लगती है।

इस गणना के परिणामस्वरूप ही संभवतः आज हर टीवी शोज़ में, राजनीतिक चर्चाओं में, निजी बातचीत में, गोष्ठियों में सभी काँग्रेसी एक ही बात कह रहे हैं – AAP को गाली मत दो ना! काँग्रेस के बड़े नेता कह रहे हैं कि सब राजनीतिक दलों को – काँग्रेस को, भाजपा को और अन्य क्षेत्रीय दलों को AAP से सीखना चाहिये। वे लोग कह रहे हैं कि यदि सब दलों ने AAP से ना सीखा तो सब दल मिट जाएँगे। वे कह रहे हैं कि सब कुछ करो पर AAP की आलोचना ना करो।

सवाल है कि -

  • काँग्रेसी नेता आजकल काँग्रेस की अपेक्षा AAP की छवि सुधारने की कोशिश में क्यों जुटे हैं?
  • वे काँग्रेस के पुनरुत्थान की अपेक्षा AAP के उत्थान के लिये अधिक चिंतित क्यों हैं?
  • क्या लोगों का यह कयास ठीक है कि AAP वस्तुतः काँग्रेस की B टीम है?
  • क्या काँग्रेस इस बार प्रत्यक्ष सत्ता ना लेकर अपने प्रोक्सीज़ के द्वारा सत्ता पाना चाहते हैं जैसा कि उन्होंने दिल्ली में किया है?
  • क्या उनके तमाम राजनीतिक प्रयास अब अखिल भारतीय कठपुतली आयोजन बनकर रह गए हैं?

इन सब प्रशनों के उत्तर यदि काँग्रेस नहीं देगी तो जनता देने को उत्सुक हो जाएगी। बेशक कुछ माह पश्चात!

THE COMPLETE ARTICLE IS ON THE LINK

http://psmalik.com/just-chill-area/201-aap-ko-gali

WHO SAYS – CORRUPTION

WHO SAYS – CORRUPTION

Netasaur483

Hindi Versionभ्रष्टाचारण – ये कौन बोला

In Delhi, these days the hot topic is corruption. A lot of people are talking about corruption, and still a lot more are talking about eliminating corruption. All and everyone are participating. Removing corruption has become a slogan of the day. Diverse views are being expressed about it.

Where the contenders are more than the resources available and the distribution of those meagre resources poses a problem, that problem is solved by the rules of corruption.

  • The Ration is limited and the ration cards are more. The objective is to secure ration;
  • The queue is long and the time at your disposal is less. The objective is to get to the counter;
  • The seats are limited and the admission seekers are abundant. The objective is get an admission

… …

The view what some people call – corruption is in fact a philosophy. The philosophy is that resources should win. It should win even against the merit. It should win against everything. Some resources are spent to make the remaining resources win and attain the apex position. The success and selection reside at this apex position.

The point is how one sees the corruption. First, it should be understood in its philosophical perspective. One sees corruption differently in different circumstances. If it favours the seeker then he chooses it and if it favours the opposite one then he criticises it. One view on corruption is largely dependent on one’s position – from where the one views it. This is called selective criticism.

… …

If one’s claim is satisfied; it is satisfied conveniently; it satisfied without any rigours – then one is voluntarily ready to spend some money. The money is earned only for convenience. This thought of convenience emerges from the resourcefulness. This motivates for the violation of rules. But this is very natural thought. Along with economic development people start valuing their time in terms of money. If one can earn more in a time span then he prefers to pay for saving that time span. This payment is called bribe. This bribe is self-induced corruption. The seeker does it himself.

… …

These days some people are in focus of media. These people are making promises to end corruption. It is not clear what they are saying. They should tell if they are promising to change the mentality of the people. They should tell if they are promising to change the approach of the people. They should tell if they are promising to change the result of evolution of humanity. Or they are just kidding.

… …

Some of such luminaries may allege that this article is favouring – the corruption. It is not so. This article is neither for supporting nor for condemning it. It is just to understand it. It is also to understand those claims which are being laid down unscrupulously these days.

Corruption is a human tendency; a congenital approach of human mind; a result of spirit of survivability which has / has been developed during evolution. The present value system calls this human tendency with a bad name – the corruption. It is not clear what the future will do. The corruption may be useful; may be painful; may be illusive; may be convincing; may be agonizing; may be pleasing; may be tormenting yet it is the tendency of the human race and without it the human society would have not achieved its present form and status. It has to be understood as such.

THE COMPLETE ARTICLE IS AT

http://psmalik.com/2013-06-11-19-06-36/21-interesting/199-who-says-corruption

IMPRISONED BY THOUGHTS

IMPRISONED BY THOUGHTS

personal space2Courtesy – www.psmalik.com

Have you ever realized your thoughts? When you embed your sensations in the words of a language they become thoughts. These sensations are about the world around you hence these thoughts are the gateways for this world to enter YOU. This world intrudes upon you through your thoughts.

Sit comfortably and observe your thoughts. These are either the memory of your past or desires of your future. Thoughts do not exist in present. In the present, only the existence exists. You should understand this thing.

… …

Observe the flow of thoughts. They are always directed outwardly from you. Thoughts drain you out of you. They create a vacuum inside you after you are totally drained out. This vacuum is then filled by the thoughts of the world. When you sit, you find thoughts of office, spouse, children, neighbours, high school camping, strategies to overcome the growth of colleagues and the thoughts of everything. But you are nowhere in your thoughts. Thought are never about you.

… …

Sit and try to regulate the flow of your thoughts. Just try to channelize them. Try to focus your thoughts, say, on your spouse. Soon you find that you have thoughts about everything but of your spouse. Your thoughts slip away from your spouse. Again try to keep your thoughts away a particular object, say, your dog. Soon you realize that the thoughts are again encircle your dog. You try your thoughts to take away from your dog but they come again and again around and about the dog. Thoughts are like untamed beasts. They are not in your control rather you are very much in their control. Therefore your statement that your thoughts are yours is not true. However it may be true to say that you are of your thoughts.

… …

These thoughts are not under your control. They are not of you. These thoughts are not ‘yours’. These thoughts are beyond your power. Rather you are of these thoughts. Moreover, they control you. You are completely filled with these thoughts. You cannot live without thoughts. These thoughts are swaying you in random directions in a random fashion. You are flowing in your thoughts. You are helpless before these thoughts.

These thoughts are not only overshadowing you in your awakened state but they have entered into your sleep also. While with eyes opened, you have hypertension. While trying to close your eyes you have insomnia. Your thoughts have incapacitated you. You want to do but are not able to do. Your thoughts have made you pathetic.

Now you are captive of your thoughts; a prisoner imprisoned in the prison of thoughts.

Get rid of Your Thoughts.

XXXXXXXX                                              XXXXXXXX

THE COMPLETE ARTICLE IS AT THIS LINK

http://psmalik.com/2013-06-11-19-32-17/12-pshychology/109-imprisoned-by-thoughts

Rajkumar Kejri

एक आवत एक जात

कबीर के दो दोहे हैं

पतझड़ आ गया है। पत्ते झड़ने लगे हैं। नीचे गिरते हुए पत्ते बहुत डिप्रैस्ड फ़ील कर रहे हैं। एक पत्ता आखिरकार कह ही उठता है

पत्ता बोला पेड़ से सुनो वृक्ष बनिराइ

अबके बिछड़े ना मिलैं दूर पड़ेंगे जाइ।।

सनातन वृक्ष के लिए पत्तों का आना जाना उतना सीमित अनुभव नहीं है। वह अनेक पतझड़ और वसन्त देख चुका है। वह इस निरन्तरता को पहचानता है। वृक्ष ने उत्तर दिया

वृक्ष बोला पात से सुन पत्ते मेरी बात

इस घर की यह रीत है एक आवत एक जात।।

अतः यहाँ से इति AAP कथा – राजकुमार केजरी

rajkumar kejri

भारतीय राजनीति को गौर से देखने वाले जानते हैं कि राज्यों का भारत में विलय, चीनी आक्रमण, नेहरू-निधन, कामराज प्लान, कांग्रेसी सिंडिकेट, संविद सरकारें और इंदिरा का उदय भारतीय राजनीति के मील के पत्थर तो हैं लेकिन युगाँतरकारी घटनाएँ नहीं है। इन घटनाओं पर भारतीय इतिहास ने करवटें तो बदली परन्तु राजनीति की धमनियों में वही खून दौड़ा किया।

लेकिन सन् पिच्छत्तर की इमरजैंसी ने जैसे पिछले पाँच हजार साल से सोते भारत को झकझोर दिया था। विपक्ष ने इमरजैंसी की अ-लोकताँत्रिक छवि की बहुत आलोचना की है। काँग्रेस ने उस निर्णय का बचाव किया है। इस राजनीतिक प्रशँसा-आलोचना से परे उस इमरजैंसी ने भारत के जनमानस को सोते से जगाया था। जागने पर जनता ने अँगड़ाई ली और अँगड़ाई लेते लेते 1977 आ गया था। तब भारत की उस निरीह जनता ने जो पाठ महात्मा गाँधी से पढ़ा था उसे दोहरा दिया। एक स्थापित साम्राज्य 1947 में चूर हुआ था दूसरा तीस बरस बाद 1977 में हो गया। वह भारतीय संदर्भों में हुई एक रक्तहीन रूसी क्राँति थी। तत्कालीन लेखों में लिखा गया कि 60 बरसों के बाद रूसी क्राँति भारत में घटित हो गई थी। परन्तु यह इतनी भर ना थी। रूसी क्राँति एक दिशा में चलने वाली रेल थी तो भारतीय क्राँति उससे अधिक व्यापक और गहन अर्थों वाली थी। इसके ये अर्थ और व्यापकता आने वाले वर्षों में साबित हुए। इसलिए भारत के राजनीतिक इतिहास को लिखते समय 1975 का साल बिना किसी हानि के एक रेफरैंस प्वाइँट के रूप में लिया जा सकता है। यहाँ इस लेख में समय की गणना साल 75 से ही की गई है।

1977 में तमाम पंडितों ने काँग्रेस के अवसान की घोषणा कर दी थी। नए दल और नई विचारधाराओं का उदय हुआ बताया गया। लेकिन 1979 में काँग्रेस जिस सामर्थ्य के साथ वापिस सत्ता में आई उससे अनेक सिद्धाँतों की पुनर्व्याख्या करनी पड़ी। काँग्रेस को दो-तिहाई बहुमत वापिस मिला। इतिहास आगे बढ़ चला। भिंडरावाले का उदय हुआ। 1981-82-83 के वर्षों में कई बार लगा कि वह खालिस्तान का पहला चक्रवर्ती सम्राट होने वाला है। परन्तु एक दिन सुबह हुई और लोगों ने पाया कि भिंडरावाले इतिहास में कहीं जड़ दिया गया है। पूरब में असम गण सँग्राम परिषद का सिंहनाद हो रहा था। नए बालकों ने असम राज्य का सिँहासन सँभाल लिया था। लगा एक युवा-क्राँति पूरब मे उदय हुई है।

दुर्भाग्यपूर्ण 1984 आया। फिर 1985 में तीन चौथाई बहुमत के साथ राजीव आए। 1989 के वी पी सिंह और उनकी अति महत्तवाकाँक्षाएँ आईं, मँडल कमिशन आया, आरक्षण आया, एनडीए आया, अटल बिहारी आए, काँधार और कारगिल आए। नरसिम्हा राव आए, लुक ईस्ट और मनमोहन सिंह आए। सीताराम केसरी का अवसान आया और काँग्रेस की तीसरी पारी आई। यूपीए द्वितीय का भी रिपीटीशन आया। रामदेव आए (और उनका अस्त भी आया)। और इस तरह धीरे धीरे आगे बढ़ते हुए अन्ना के एक साथी केजरीवाल का उदय आया।

केजरीवाल के उदय से भी अधिक एक शैली का उदय हुआ जिसे बिना किसी झिझक के केजरीवाल शैली कहा जा सकता है। उन्होंने राजनीति में लगभग वही किया जो राजकपूर ने सिनेमा में किया था। एक कहानी तैयार की जिसमें हक़ीकत और फ़ँतासी का ऐसा घालमेल तैयार किया कि सब राजनीतिक दल चित हो गए। दिल्ली की हर गली केजरीवाल गाथाओं से गूँज उठी। राजनीतिक दलों की समझ को लकवा मार गया।

केजरीवाल ने जनता से वादे किये। उन्होंने जनता को कहा कि पुराने राजनीतिज्ञों का यकीन ना करो क्योंकि वे झूठ बोलते हैं। उन्होंने बहुत बेझिझक अँदाज में कहा कि वर्तमान राजनीति में जो लोग उनके साथ हैं सिर्फ वे ही ईमानदार हैं शेष सब बेईमान हैं। इतना ही नहीं उन्होंने एक ऐसी शब्दावली का प्रयोग किया जो बिल्कुल नई थी और जिसे याद करने के लिए भी दोहराया नहीं जा सकता। तमाम परिभाषित रूपों को तोड़ दिया गया। उनके साथ चलने वाले और स्वयँ को उच्च साहित्यकार कहने वाले लोगों ने तो ऐसे ऐसे भाषिक प्रयोग किये कि मदिरा पान के बाद सड़क पर लड़ने वाले यौद्धाओं ने भी दाँतो तले उँगलियाँ दबा ली थीं। समसामयिक सिनेमा का प्रभाव कहये या कुछ और कहिये लोगों को यह केजरीवाल – आल्हा बहुत पसँद आई और उन्होंने उसे बहुत ध्यान और चाव से सुना। अपने वोट के रूप में सकारात्मक उत्तर भी दिया। आज केजरीवाल बाबू पर सत्ता का चँवर डुलाया जा रहा है।

जैसा 1977 में भारतीय-काँग्रेस ने महसूस किया था वैसा ही 2013 में दिल्ली-काँग्रेस ने महसूस किया। अन्य विपक्षी दल भाजपा सदमा, राहत, हैरानी, घात और किंकर्त्तव्यविमूढ़ता (दुविधा) के मिले जिले भावों से ग्रस्त है। उससे ना बोलते बन पड़ रहा है और ना ही चुप रहते।

परन्तु इस लेख का उद्देश्य 1977 के बाद की राजनीतिक वँशावली तैयार करना नहीं था। सिर्फ़ यह याद दिलाना था कि साल 2012 में भारत की राजनीति लगभग उसी अवस्था में प्रकाशमान थी जैसी वह 1980 में थी – वही ऊहापोह, वही कसरतें और वही हसरतें। बहुत से म्यूटेशन (चरम् परिवर्तन) आए और गये पर राजनीति वहीं रही, जनता वहीं रही और भारत वहीं रहा। भिँडरावाले, असम गण परिषद, कश्मीर चरमवाद, एन डी ए, यू पी ए, देवेगौडा, गुजराल सब इतिहास के अलग अलग पृष्ठों पर टाँक दिये गये। भारत, भारतीयता और भारतवँशी कमोबेश वही रहे जो वे थे और अब हैं।

ऐसे में नीले आसमान में सफेद घोड़े पर बैठा यह केजरीवाल नाम का राजकुमार जिस जादू की छड़ी को हिला कर भारत के समाज को बदलने की घोषणा कर रहा है वह कितनी विश्वसनीय है यह एक ऐसा सदका है जिस आने वाला समय बहुत जल्द जनता के सामने उतारने वाला है। लेकिन इसे सिर्फ़ समय के सहारे नहीं छोड़ा जा सकता। इसका क तार्किक आकलन आवश्यक है।

THE COMPLETE ARTICLE IS AT THE LINK BELOW:

http://psmalik.com/2013-06-11-19-06-36/21-interesting/198-rajkumar-kejri

AAP Govt. – Be Comfortable With the Change

AAP Govt. – Be Comfortable With the Change

AAP Govt

AAP is likely to form its government soon, within a day or two. The emergence of AAP has been quite sudden and unexpected. Those who are accustomed to the traditional mode of politics may feel a bit uncomfortable for the language the champions of AAP are using and modus they are adopting. On a number of issues they have adopted the methodological approach – if you are not with us then you are against us; the one which was adopted by America before its War on Terror in Afghanistan. It baffles the conventional intelligentsia in Indian politics.

But every new beginning of foundations is possible only when the existing structures are removed. AAP claims to remove the remnants of the erstwhile politics. It claims not to improve the politics but to end the rotten ways of existing politics and start a new politics – lucid and transparent in its working.

Public is mostly divided in two groups – the one which cast votes and the other those who after casting votes discuss the implications also. This second group is now apprehensive regarding the performance of AAP Govt. The main promise regarding the reduction in power tariffs appears to be stuck in the clutches of power supply companies. If these companies do not agree to supply power at a rate forced by AAP Govt. and in case of highhandedness by the AAP, then would the people of Delhi be going to face a threatened black out in near future. The answer is not so simple. It may be anything ranging from the confidence and trickiness of Kejriwal – the headman to disastrous frustration of the public’s dream of a new era politics.

The second issue is providing a minimum quantity of water to each family. So far no data has been presented, neither by the proposed or previous Govt.s, showing the precise number of the families which are in demand of water. Secondly, the water in Delhi is not locally available. It has to be taken from the adjoining states. Then it has to be purified. Then it has to be distributed. Delhi Jal Board does not have resources enough even to reach the entire public in Delhi. In these circumstances how the goals are to be achieved will be awaited by all the concerned ones.

Same appears to be the fate of Jan Lokpal Bill. It cannot be passed by the Delhi legislative assembly simpliciter. The Sansad is to be taken into confidence. There are rules in that regard. Until these rules are changed and the equations between the Delhi Govt. and the Central Govt. are modified AAP Govt. would not be able to perform in accordance to their promises.

But one thing is sure. The working of the AAP in government is not going to be less interesting then the hymns chanted by them during their risings. The future is certainly going to be interesting.

THE COMPLETE ARTICLE IS AT THE LINK BELOW

http://psmalik.com/just-chill-area/196-aap-govt-be-comfortable

हस्तिनापुर के मल्ल

हस्तिनापुर के मल्ल

Nukkad natak448

राजनीति और पहलवानी में सार्थक समानताओं का दौर आजकल दिल्ली में देखने को मिल रहा है। वैसे तो पहलवानी के लिए अलग स्थानों पर रिंग (पुराना नाम अखाड़ा) की अलग व्यवस्था की जाती है परन्तु आजकल इसे दिल्ली की गलियों, नुक्कड़ों और चौराहों पर देखा जा सकता है। क्योंकि ये मल्ल (नया नाम पहलवान) सभी व्यवस्थाओं को बदलने का वादा करते हैं इसलिये इन्होंने प्रहार करने का तरीका भी बदल दिया है। पहले शरीर की ताकत को परखा जाता था परन्तु इस बार दिमाग़ की पैंतरेबाजी और ज़बान की ताकत पर ज्यादा भरोसा किया जा रहा है।

पहलवानों का एक समूह इस हस्तिनापुर नगरी में आ गया बताते है। उनकी खूबी है कि किसी को भी गाली दे देते हैं। उनका दृष्टिकोण बिल्कुल नयी किस्म का है। उन्हें लोगबाग साँप और बिच्छु नजर आते हैं। सुना है कुछ लोगों उन्हें बताया कि वे तो लोगों को साँप-बिच्छु कह रहे हैं तो उन्होंने उन बताने वालों पर ही हमला बोल दिया। उनमें से एक नामी पहलवान ने बताने वालों को धोखेबाज और चालबाज बता दिया है।

हरेक नुक्कड़ पर ढोलक बजाई जा रही है। आओ हमारा मल्लयुद्ध देखो। हम विरोधियों की पुंगी बजा देंगे। दर्शक जमा हो गये। मज़मा लग गया। किसी ने पूछा कि मल्लयुद्ध में पुंगी कैसे बजाओगे। तो मल्लप्रमुख ने कहा हम उनके वस्त्र फाड़ देंगे। पूछा गया कि मल्लयुद्ध में दूसरों के कपड़े फाड़ने का नियम नहीं है तो कपड़े क्यों फाड़ोगे? उत्तर मिला कि हम व्यव्स्था परिवर्तन चाहते हैं। मल्लप्रमुख की भुजाएँ फड़कती हुई दिखाई देती हैं। उसने अपना मफलर कस कर लपेट लिया है। ऊँचे स्वर में कहता है हम उन सबको जेल भेज देंगे। दर्शकों में से एक ने पूछा क्यों जेल भेज दोगे। उत्तर दिया जाता है कि हमें व्यवस्था जो बदलनी है।

FOR COMPLETE ARTICLE PLEASE VISIT THE LINK BELOW

http://psmalik.com/just-chill-area

उपवन प्रबंधन के बोझ से हाँफती तितलियों की व्यथा

upvan

परन्तु  दिल्ली की जनता अवाक् है। कुछ कहते नहीं बन रहा है। अनेक नए मतदाताओं ने इस बार एक निर्वाक् क्राँति Silent Revolution को वोट दिया था। बिना किसी शोर के दिल्ली की शासन धमनियों में एक नये रंग का रक्त प्रवाहित कर दिया था ताकि एक सड़े हुए सिस्टम का बोझ उसे और ना उठाना पड़े। लेकिन चुनाव परिणामों ने ना सिर्फ़ बोझ और अधिक बढ़ा दिया है बल्कि जो चेहरे तारनहार के रूप में अवतरित होकर सामने आए थे चुनावों के बाद उन चेहरों की आभा ही समाप्त हो गई है। वे चेहरे आभाहीन नज़र आ रहे हैं। जनता किंकर्त्त्तव्यविमूढ़ है, दुविधा में है, कन्फ्यूज़्ड है कि ऐसे में क्या करे। भरोसा चूर चूर हो गया लगता है।

आओ विचार करें।

सत्ता का स्वरूप राजनीतिक है – राजनीति पर आधारित है। वैसे ही जैसे कि बाजार का स्वरूप मौद्रिक है – मुद्रा (पैसे) पर आधारित है। यदि कोई सज्जन यह कहे कि उसे बाजार से कोई गुरेज़ नहीं है बस उसमें पैसे का चलन रोक दो। पैसा बुरा है। पैसा लोभ लालच की जड़ है। बाजार में से पैसा हटा दो तो मुझे बाजार स्वीकार है और मैं भी अपनी दुकान खोलने के लिये तैयार हूँ। तो ऐसे तर्क सुनकर विद्वान लोग उन सज्जन को कहते हैं कि आप को यदि पैसे से परहेज़ है तो बाजार में आते ही क्यों हो। दुकान खोलते ही क्यों हो। अध्यात्म में जाओ और आश्रम खोलो। दुकान मत खोलो।

ऐसे ही तर्क आजकल दिल्ली की हवाओं में तैर रहे हैं। हम सरकार बना सकते हैं यदि आप वादा करो कि आप कोई राजनीति नहीं करोगे। यदि आप वादा करो कि आप अपने आँख कान मूँदकर हमारे पीछे पीछे चलोगे। यदि आप वादा करो कि आप हमारी गालियों के जवाब में चुप रहोगे। गालियाँ तो हम आपको इस लिये देते हैं कि हम ईमानदार हैं और अन्य कोई ईमानदार नहीं है। वादा करो कि चुपचाप हमारी गालियाँ सुनते रहोगे और कभी पलटकर जवाब नहीं दोगे। अगर जवाब दे दिया तो हम सरकार नहीं बनाएँगे।

अब किसी दल को कोई समाधान सूझ नहीं रहा है। वे राजनीतिक दल हैं। राजनीति ना करें तो क्या करें। शासन समीकरणों द्वारा राजनीति ही उन दलों का आकार तय करती है। वे दल शासन का स्वरूप तय करते हैं। अब शर्त लगाई जा रही है कि आप राजनीति ना करें। तो ऐसे में वे दल क्या करें। अगर वे दल राजनीति ना करें तो फिर राजनीति कौन करेगा। आप तो ईमानदार हैं राजनीति करोगे नहीं तो क्या आप उसी राजनीति को समाप्त करना चाहते हो जो राजनीति आपके जन्म, वृद्धि और पराक्रम के लिये जिम्मेदार है। जो राजनीति आपको मुख्य पटल पर लाई वही आप बंद करवा रहे हैं तो फिर जनता का क्या होगा जिसके पास राजनीतिक पद्धति के रूप में मतदान सबसे बड़ा हथियार है। आपकी ये बातें तो उसी जनता के खिलाफ हैं जिसने आपके  लिये वोट किया था। क्या आप ऐसी बातें सोच समझ कर रहे हैं क्योंकि आपका दावा है कि आपसे बेहतर कोई अन्य नहीं सोच सकता है।

FOR COMPLETE ARTICLE PLEASE VISIT THE LINK BELOW

http://psmalik.com/just-chill-area/192-upvan